♦इस खबर को आगे शेयर जरूर करें ♦

दस मार्च के बाद एसआईटी करेगी बड़ा धमाका! शहर के चर्चित चेहरो पर लटकी गिरफ्तारी की तलवार

रिपोर्ट– मनोज कुमार वर्मा,, संवाददाता सैफई मैनपुरी

मैंनपुरी के भोगांव स्थित जवाहर नवोदय विद्यालय छात्रा मौत मामला

दस मार्च के बाद एसआईटी करेगी बड़ा धमाका

शहर के चर्चित चेहरो पर लटकी गिरफ्तारी की तलवार

जनपद मैनपुरी के बहुचर्चित जवाहर नवोदय छात्रा मौत मामला कथित हत्याकांड में 10 मार्च के बाद एसआईटी बड़ा धमाका कर सकती है।मैंनपुरी संवाददाता मनोजकुमार वर्मा।भोगांव नबोदय विद्यालय कांड में एसआईटी-2 ने अपनी जांच में इसकी तैयारी पूरी कर ली है। दो दिन पूर्व हाईकोर्ट में अब तक की जांच की रिपोर्ट दाखिल हो गई है। इस मामले में नवोदय की पूर्व प्रधानाचार्य की गिरफ्तारी हो चुकी है और वे जेल में हैं। एसआईटी ने छात्रा की मां के बयान दर्ज कराने के बाद तीन से चार लोगों को चिन्हित किया है। यह चारों नाम शहर के चर्चित चेहरे हैं। इनकी चेहरों पर गिरफ्तारी की तलवार लटक गई है। उधर एसआईटी की सिफारिश पर दिल्ली फॉरेंसिक एक्सपर्ट की टीम भी मामले की जांच करने मैनपुरी आ रही है।

ज्ञात हो कि भोगांव के जवाहर नवोदय विद्यालय में 16 सितंबर 2019 को कक्षा 11 की छात्रा फांसी पर लटकी मिली थी। छात्रा की मौत किस तरह हुई, यह सवाल घटना के बाद से ही अनसुलझा है। मुश्किल पहलू यह है कि परिजनों और शहर के लोगों की मांग पूरी करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मामले का खुलासा करने के लिए अब तक दो एसआईटी बना चुके हैं। पहली एसआईटी घटना का खुलासा करने में फेल हो गई थी। इसके बाद एडीजी भानू भास्कर की अध्यक्षता में दूसरी एसआईटी 18 सितंबर 2021 से इस मामले में जांच कर रही है। एसआईटी-2 ने अपनी जांच में अब तक कोई विशेष तथ्य भले ही हासिल नहीं किए हैं लेकिन घटना के समय नवोदय की प्रधानाचार्य सुषमा सागर को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

मेल स्पर्म और दुष्कर्म का राज अनसुलझा

16 सितंबर 2019 को छात्रा की मौत होने के बाद पिता की तहरीर पर भोगांव कोतवाली में आईपीसी की धारा 302, 376, 306, 511, 34 आईपीसी तथा पॉक्सो एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया गया था। छात्रा की मौत होने के बाद वीडियोग्राफी कराते हुए तीन सदस्यीय चिकित्सकों के पैनल से पोस्टमार्टम कराया। चूंकि पिता की तहरीर में दुष्कर्म का आरोप था इसलिए दुष्कर्म की पुष्टि के लिए स्लाइड भी तैयार कराई गई, जिसे जांच के लिए आगरा भेजा गया। जिसमें दुष्कर्म की पुष्टि हुई। लैब रिपोर्ट में स्लाइड पर मेल स्पर्म की भी पुष्टि हुई थी। दुष्कर्म और मेल स्पर्म की पुष्टि के बाद पूरा मामला ही बदल गया था। मेल स्पर्म और दुष्कर्म का राज अभी तक अनसुलझा ही है।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें




स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे


जवाब जरूर दे 

झांसी में हो रही बिजली आपूर्ति से आप खुश हैं

View Results

Loading ... Loading ...


Related Articles

Close
Close
Website Design By Bootalpha.com +91 84482 65129