♦इस खबर को आगे शेयर जरूर करें ♦

मुर्दा भगवंता पहुंचा कलेक्ट्रेट, कहा साहब मैं जिंदा हूं

मुर्दा भगवंता पहुंचा कलेक्ट्रेट, कहा साहब मैं जिंदा हूं


तहसील अतर्रा अंतर्गत विकासखंड महुआ के नाई गांव का निवासी भगवता पुत्र चुनबाद सोमवार को जिला अधिकारी कार्यालय पहुंचा और एक शिकायती पत्र दिया..

बांदा,

‘मैं जिंदा ठाढ़ हौं,मोहि मरता दिखा दिहिन है, आषाढ़ से पैसा नहीं मिलता बाबू जी’ यह करुण पुकार है ,एक बुजुर्ग की, जिसे अभिलेखों में मृत दिखा दिया गया है।अपने आप को जीवित साबित करने के लिए यह बुजुर्ग अधिकारियों की चौखट पर दर-दर भटक रहा है ताकि उसे पेंशन मिलने लगे वह बताता है कि 6 माह पहले तक उसे पेंशन मिल रही थी।तहसील अतर्रा अंतर्गत विकासखंड महुआ के नाई गांव का निवासी भगवता पुत्र चुनबाद सोमवार को जिला अधिकारी कार्यालय पहुंचा और एक शिकायती पत्र दिया। इसमें कहा गया है वह गरीब, असहाय व वृद्ध है। मुझे वृद्धावस्था पेंशन मिल रही थी लेकिन वित्तीय वर्ष 2021-22 में संबंधित कर्मचारी द्वारा सत्यापन रिपोर्ट में जांच के समय लाभार्थी को 3 जुलाई 2021 को मृत घोषित कर दिया गया था। जिससे मुझे पेंशन मिलना बंद हो गई।अपने आप को जीवित साबित करने के लिए मुझे अधिकारियों के कार्यालयों में चक्कर लगाना पड़ रहा है। मेरी कोई औलाद नहीं है जिसके सहारे अपना जीवन यापन कर सकूं। पेंशन बंद हो जाने से भुखमरी की नौबत आ गई है। पीड़ित ने मांग की है कि इस प्रकरण की पुनः जांच कराकर मेरी पेंशन बहाल की जाए तथा अभिलेखों में मृत दर्शाने वाले कर्मचारी की जांच कर उसके खिलाफ कार्रवाई भी की जाए।इस संबंध में जिलाधिकारी द्वारा जांच के आदेश दिए जाने पर जिला समाज कल्याण अधिकारी बांदा गीता सिंह ने खंड विकास अधिकारी महुआ को पत्र भेजा है और पूरे प्रकरण की जांच करने को कहा है। पत्र में कहा गया है कि आवेदक के वृद्धावस्था पेंशन के संबंध में ऑनलाइन डाटा से मिलान किया गया।जिसमें यह तथ्य प्रकाश में आया कि वित्तीय वर्ष 2021-22 के सत्यापन में विकासखंड स्तर प्राप्त सत्यापन सूची के क्रम संख्या 9 पर अंकित आवेदक भगवंता पुत्र चुनबाद के जीवित होने के बावजूद भी योजना अंतर्गत वार्षिक सत्यापन में मृतक होने की पुष्टि की गई। सत्यापन आख्या के आधार पर उक्त आवेदक की वृद्धावस्था पेंशन समाप्त कर दी गई है। जबकि उक्त आवेदक जीवित है इससे स्पष्ट होता है कि आपके अधिनस्थ ग्राम पंचायत अधिकारी द्वारा सत्यापन में घोर लापरवाही की गई है और स्थलीय सत्यापन नहीं किया गया है।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें




स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे


जवाब जरूर दे 

झांसी में हो रही बिजली आपूर्ति से आप खुश हैं

View Results

Loading ... Loading ...


Related Articles

Close
Close
Website Design By Bootalpha.com +91 84482 65129